From a lost letter

IMG_0526

कड़वाहट की मीठी ख़ुशबू
मोहब्बत के अफ़साने कुछ
धीरे से गर्माते दिन में
मिल जाएँ अनजाने कुछ

ये ख़याल मिरे तुम लेते जाओ
आधे हैं पैमाने कुछ
शाम हुए जल उठते हैं जब
आते जुगनू और परवाने कुछ

अधूरी बातें, ख़्वाब मुकम्मल
धुँधले कुछ, पहचाने कुछ
बातें करते सन्नाटों में
रिश्तों के ताने-बाने कुछ

कुछ यादों को भूलो तुम भी
दिन बीते, और शामें कुछ
ढलती शामों में बहने दो
यादों के वीराने कुछ

This entry was published on March 21, 2015 at 19:39. It’s filed under Poetry and tagged , , , . Bookmark the permalink. Follow any comments here with the RSS feed for this post.

One thought on “From a lost letter

  1. Vivek Kumar Thagele on said:

    बहुत खूबसूरत!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: